आपका ब्रेन डैमेज़ कर सकती हैं, रोज की ये 9 आदतें – Brain Damaging Habits in Hindi

आपकी रोजाना की ये आदतें, कर सकती हैं आपका ब्रेन डैमेज – Shocking Brain Damaging Habits in Hindi

हममें से हर एक व्यक्ति अपने स्वास्थ्य को लेकर हमेशा चिंतित रहते हैं। वे क्या खाते-पीते हैं, कैसे चलते हैं, कैसे दिखते हैं, उनकी फिजिकल हेल्थ अच्छी है या नहीं। इसकी चिंता अक्सर लोगों को परेशान करती है। लेकिन क्या आप अपने उस अंग पर कभी ध्यान देते हैं जो सबसे महत्वपूर्ण है, जो आपके पूरे शरीर व इसकी सभी क्रियाओं को नियंत्रित करता है।

जी हां दोस्तों! आप ठीक समझे, आपका मस्तिष्क। आपके शरीर का कंट्रोल सिस्टम यानी आपके मस्तिष्क का फिट रहना उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि शरीर के अन्य अंग जैसे- हृदय,फेफड़ा, आंखे, किडनी आदि।

दोस्तों! मस्तिष्क आपके शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग है, यदि इसमें कोई गड़बड़ी हो जाये तो यह आपको बहुत ज्यादा प्रभावित कर सकता है। जिसमें आपकी याददाश्त, आपके सोचने की क्षमता, सवेंदना, भावना आदि शामिल हैं।

कहा जाता है कि अगर हम किसी प्रक्रिया को बार बार दोहराएं तो वह प्रक्रिया धीरे-धीरे एक आदत का रूप ले लेती हैं। अच्छी आदतें लगें तो जिंदगी सफल बन जाती है। लेकिन अगर आपकी आदतें गड़बड़ हैं तो ये बहुत नुकसान कर देती हैं।

9 Brian Damaging Habits जो आपके दिमाग को ख़राब कर रही हैं।

आधुनिक जीवनशैली में बदलाव के कारण आजकल लोगों में जाने-अंजाने कुछ ऐसी Habits विकसित हो गई हैं। जो आपके बिना जानकारी के आपका नुकसान कर रही हैं। ये सभी Brain damaging habits लोगों के दिमाग को बहुत ज्यादा प्रभावित करती हैं। इन्हीं Habits की वजह से कम उम्र से ही लोग विभिन्न प्रकार मानसिक विकार (Mental Disorders) जैसे, तनाव, डिप्रेशन, अल्जाइमर, याददाश्त कमजोर होना आदि समस्याओं का सामना कर रहे हैं।

दोस्तों! आज के लेख में हम आपके साथ कुछ ऐसी ही आदतों (Brain Damaging Habits) के बारे में बात कर रहे हैं। जिनका बुरा असर सीधे आपके मस्तिष्क पर होता है। ये आदतें न केवल आपके Mind को नुकसान पहुंचाती हैं बल्कि आपके Brain को Damage भी कर सकती हैं। तो चलिए जानते हैं 9 ऐसी आदतों (Brain Damaging Habits) के बारे में जो आपके ब्रेन को नुकसान पहुंचा रही हैं।

ब्रेन डैमेज़ की वजह बन सकती हैं ये 9 आदतें – 9 Brian Damaging Habits in Hindi

1. सिर ढक कर सोना

खाशकर सर्दियों के मौसम में गर्माहट और आराम के लिए लोग सिर ढककर सोते हैं। लेकिन रिसर्च कहती हैं कि सिर ढककर सोने पर मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव होता है। कई अध्ययन में पाया गया है कि सिर ढककर सोने वाले लगभग 23 प्रतिशत लोगों में डिमेंशिया और अल्ज़ाइमर खतरनाक बीमारी विकसित होती है।

इसका मुख्य कारण पर्याप्त ऑक्सीजन का न मिलना है। दोस्तों! हमारे मस्तिष्क के बेहतर फंक्शन के लिए ऑक्सीजन बहुत महत्वपूर्ण होता है, इसकी कमीं होने पर मस्तिष्क की कोशिकाओं को नुकसान पहुंच सकता है। सिर ढक कर सोने से फ्रेस वायु न मिलने से ऑक्सीजन में भारी गिरावट आ जाती है, और आप पर्याप्त ऑक्सीजन ग्रहण नहीं कर पाते। इसलिए सोते समय सिर को खुला रखें।

2. पर्याप्त नींद न लेना

नींद की कमीं व अधिकता दोनों ही आपके शरीर और दिमाग के लिए नुकसानदेह है। पर्याप्त नींद से आपकी मेंटल, इमोशनल और फिजिकल हेल्थ में सुधार होता है, आप फ्रेस और ज्यादा एक्टिव होते हैं। जबकि नींद की कमीं आपके अंदर थकान, याददाश्त में कमजोरी के साथ ही डिमेंशिया, अल्ज़ाइमर व अन्य न्यूरोलॉजिकल बीमारियों को उत्पन्न कर सकता है।

यदि आप प्रतिदिन नींद पर्याप्त नींद लेने में कोताही करते हैं तो आप आलस का अनुभव करते हैं, आपके सोचने की क्षमता कमजोर हो सकती हैं। साथ ही कम नींद से आपके मस्तिष्क की कोशिकाएं भी कमजोर होती हैं। इसलिए प्रतिदिन बिना किसी बाधा के 7 से 8 घंटे की नींद जरूर लें।

और पढ़ें: अच्छी नींद आने के लिए 7 घरेलू उपाय

3. डिहाइड्रेशन/ पानी कम पीना

यह बहुत ही सामान्य सी आदत हैं जो आपके ब्रेन को प्रभावित कर सकती है। हमारे शरीर का दो- तिहाई हिस्सा पानी से मिलकर बना है, और यह शरीर की लगभग सभी क्रियाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। शरीर में पानी की कमीं यानी डिहाइड्रेशन विभिन्न समस्याओं को उत्पन्न करता है जैसे- माइग्रेन, कब्ज, गुर्दे की पथरी आदि।

इसके अलावा यह दिमाग के स्वास्थ्य, आपके मूड व मस्तिष्क के कार्यो को भी प्रभावित करता है। डिहाइड्रेशन के कारण चिड़चिड़ापन, एंग्जायटी और थकान के लक्षण दिखाई देते हैं। दिमाग के 3/4 भाग में पानी है, इसकी कमीं होने पर यह सिकुड़ने लगता है। जिसके कारण सिरदर्द की समस्या होने लगती है। इसलिए मस्तिष्क के बेहतर फंक्शन के लिए पर्याप्त पानी पीते रहें। साथ ही फल व सब्जियों का भी अधिक से अधिक सेवन करें।

इसे भी पढ़ें: बॉडी को हाइड्रेट कैसे करे?

4. तेज आवाज में म्यूजिक सुनना

म्यूजिक सुनना सेहत के लिए अच्छा हैं, यह हमें प्रसन्न रखने में मदद करता हैं। लेकिन समस्या यह है की लोग हेडफोन या ईयरफोन लगाकर बहुत अधिक तेज आवाज में म्यूजिक सुनते हैं। क्या आपको पता है की आपकी यह आदत आपके सुनने की क्षमता को पूरी तरह से खत्म कर सकती है।

इसके अलावा यह अन्य मस्तिष्क से संबंधित समस्याएं जैसे Memory Loss, Alzheimer और लंबे समय में आपके मस्तिष्क के ऊतकों को नुकसान पहुंचा सकता है। यदि आप ऐसा करते हैं तो इसे बंद कर दें। अपने मस्तिष्क की सुरक्षा व सुनने की क्षमता को बनाये रखने के लिए हमेशा निम्न वॉल्यूम में ही म्यूजिक सुने। साथ ही दिन में नियमित ब्रेक लेते रहें जिससे आपके कानों को रिलैक्स करने का समय मिले।

5. ज्यादा टीवी देखना

अधिकांश भारतीय घरों में दिन की शुरुआत चाय/ कॉफी और टेलीविजन पर न्यूज के साथ होती है। कुछ समय के लिए तो यह ठीक है। लेकिन टीवी के सामने ज्यादा समय बिताना आपकी Mental और Emotional Well-being के लिए नुकसानदेह साबित होता है।

समय की बर्बादी के साथ ही टीवी आपके Social Interaction को भी कम कर रहा है। मोटापा, अनिद्रा, गर्दन और Back Pain के साथ ही डिप्रेशन और एंग्जायटी की लिए भी जिम्मेदार है ज्यादा टीवी देखने की ये आदत।

कई शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में पाया है कि अधेड़ उम्र तक जिनमें ज्यादा टीवी देखने की आदत होती है। उम्र बढ़ने के साथ ही उनके मानसिक स्वास्थ्य में गड़बड़ी की संभावना काफी बढ़ जाती है।

दोस्तों! टीवी देखना किसी भी प्रकार से फायदेमंद नहीं है। इसलिए जो समय आप टीवी के सामने बैठकर बिताते हैं, उस टाइम को आप मजबूत सोशल नेटवर्क बनाने और सकारात्मक चीजों को सीखने में लगा सकते हैं।

6. मल्टीटास्किंग करना – Multitasking is Bad for Your Brain

यदि आप सोचते हैं कि आप मल्टीटास्किंग करके ज्यादा काम कर लेते हैं तो आपका सोचना गलत है। मल्टीटास्किंग आपको प्रोडक्टिविटी को बढ़ाता नहीं बल्कि कम करता है। दोस्तों! मल्टीटास्किंग आपके फोकस करने की क्षमता को भी कम करता है। दरअसल, जब आप एक काम से दूसरे काम पर तुरंत स्विच करते हैं। और कुछ समय बाद, दोबारा से उसी काम पर फिर से वापस आते हैं तो आपको पहले वाले काम पर पूरी तरह ध्यान लगाने में समय लगता है।

स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के रिसर्चर “क्लिफोर्ड नास” बताते हैं कि यदि आप लंबे समय से मल्टीटास्किंग करते आ रहें हैं। ऐसे में यदि आप Singal Task पर भी ध्यान लगाते हैं तो भी आपको दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। वे कहते हैं कि समय के साथ बार-बार मल्टीटास्किंग करना वास्तव में आपके दिमाग के काम करने के तरीके को बदल देती है। जिससे आपके ध्यान लगाने के बावजूद भी आपकी प्रोडक्टिविटी कम हो जाती है।

7. व्यायाम व मानसिक गतिविधियों में कमीं

ऐसे लोग जो स्वस्थ जीवनशैली के साथ ज्यादा एक्टिव और उत्साहित रहते हैं उनमें मानसिक विकार जैसे- अल्जाइमर, डिमेंशिया, डिप्रेशन का खतरा बहुत ही कम होता है। यदि आप खुद को एक्टिव रखते हैं तो आपकी मेमोरी पॉवर, Learning Ability बेहतर होती है।

वही वे लोग जो गतिहीन दिनचर्या अपनाते हैं उनमें विभिन्न बीमारियां जैसे – डाइबिटीज, हृदय रोग, हाई ब्लड-प्रेशर के साथ फिजिकल एक्टिविटी में कमीं से शरीर के विभिन्न हिस्सों व मस्तिष्क में पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं पहुंचता है। जिससे आलस (Lesiness) के साथ अन्य समस्याएं उत्पन्न होती हैं। इसलिए रोजाना एक्सरसाइज और मानसिक एक्टिविटी जैसे- किताबें पढ़ना, Learning, माइंड गेम को दिनचर्या में शामिल करें।

8. ज्यादा मीठा खाना

ज्यादा मीठा खाने का शौक आपके Brain को Damage करने के साथ ही टाइप-2 डायबिटीज, दांतों में कैविटी, और मोटापा बढ़ाने के मुख्य कारणों में से एक है। अब आप कहेंगे कि मीठा खाने की हैबिट Brian को कैसे Damage कर सकती है?

वह ऐसे कि – लंबे समय तक ज्यादा मीठे का सेवन आपके शरीर से प्रोटीन और अन्य न्यूट्रियंट्स को अवशोषित करने की क्षमता को घटा देता है। जिससे आप कुपोषण के शिकार हो सकते हैं। इस स्थिति में मस्तिष्क को उचित पोषण नहीं मिला पाता और मस्तिष्क के विकास में बाधा पहुंचती है। ज्यादा मीठा आपकी मेमोरी व सोचने की क्षमता को कमजोर बना सकता है।

9. सेल्फी या हर एक चीज की फोटो खींचना

फ़ोटो खींचना और खिंचवाना किसे पसंद नहीं होता। आजकल तो यह शौक लगभग हर उम्र के लोगों में दिखाई देता है। जीवन के हर लम्हों को यादगार बनाने के लिए हम सब चीजों को या किसी खास पल को कैमरे में कैद करते हैं। कुछ समय के लिए तो यह सही भी है। परंतु इसकी आदत हो जाना सेहत के लिए ठीक नहीं है। हर चीज की फोटो लेने आपके याददाश्त कमजोर होने का एक कारण हो सकता है।

होता कुछ यूं है कि जब आप किसी खास पलों को कैमरे में कैद करते हैं तो आपका पूरा ध्यान उन चीजों और फोटो फ्रेम पर ही होता है। आप न तो उन पलों को ठीक से देख पाते हैं और न ही उसका अनुभव कर पाते हैं। लंबे समय में यह आपके याददाश्त पर असर डालता है। आप केवल फोटोज के चीजों को ही याद कर पाते हैं, न कि उन पलों को जो आपने जिया है। इसलिए फोटो खींचना अच्छी बात है, लेकिन उससे जरूरी यह है कि आप उन खास पलों को जियें, उनका आनंद लें।

निष्कर्ष: Conclusion

तो दोस्तों ये हैं वो 9 Habits जो आप अपने Daily Life में करते हैं तो यह आपके मस्तिष्क को नुकसान पहुंचा सकती हैं। (9 Bad Habits That Damage Your Brain (Hindi) दोस्तों ये आदतें तुरंत तो अपना प्रभाव नहीं दिखती। लेकिन समय के साथ ये Brain Damaging Habits आपको बहुत बड़ा नुकसान पहुंचा सकती हैं।

यदि आपमे ये आदतें हैं तो एक-एक करके इन सब से छुटकारा पा लें। फिर आप देखेंगे कि आप पहले कितना ज्यादा खुशी, शांति और पॉजिटिविटी का अनुभव कर रहे हैं। आप अपने मस्तिष्क के अच्छे स्वास्थ्य के लिए बुनियादी चीजें जैसे – अच्छा खाना, पानी, पर्याप्त नींद लेना कभी न भूलें। क्योंकि इसका उचित खयाल रखना सिर्फ आपकी ही जिम्मेदारी है।

दोस्तों आशा है कि यह लेख “ 9 Brain damaging habits” आपको पसंद आया। आपमें इनमें से कौन सी आदतें हैं और उसके सुधार के लिए आप क्या करने वाले हैं हमें Comment में लिख कर जरूर बताएं।

धन्यवाद!

Leave a Comment